बालिका गृह की बच्चियों ने सीखे आग से बचाव के तरीके

Joharcg.com बालिकाओं को शिक्षा के साथ आत्मरक्षा और विपरीत परिस्थितियों से बाहर निकलने की जानकारी भी होनी चाहिए। इसके लिए राज्य सरकार बालिकाओं को समय-समय पर आत्मरक्षा और खुद के बचाव के तरीके सिखाने के लिए कार्यक्रम और प्रशिक्षण का आयोजन करती रहती हैं। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया ने भी बालिकाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें प्रशिक्षण और जानकारी देनेे के निर्देश दिए हैं। इसी कड़ी में कोरबा जिले में संचालित बालिका गृह में रहने वाली बच्चियों को आपातकालीन परिस्थितियों में आग लगने पर बचाव के तरीके सिखाने मॉकड्रिल का आयोजन किया गया। इस मॉकड्रिल में बालिकाओं को आग लगने पर परिस्थितियों का धैर्यपूर्वक सामना करने और उसके समाधान के बारे में पूरी जानकारी दी गई।

विभिन्न प्रकार के अग्निशमन यंत्रों का प्रदर्शन भी किया गया

बालिका गृह सुमति सामुदायिक विकास संस्था कोरबा में रहने वाली बालिकाओं ने इस मॉकड्रिल से आग से खुद को और दूसरों को बचाने के तरीके को प्रयोगात्मक प्रदर्शन में शामिल होकर सीखा। इस दौरान अग्निशामक टीम के प्रमुख जिला नगर सेनानी कमांडेंट श्री पी. वी. सिदार ने बालिकाओं को आग लगने के कारण, आग लगने के प्रकार-तरीके, आग बुझाने के लिए उपयोग किए जाने वाले तरीकों और अग्निशमन यंत्रों तथा किए जाने वाली रोकथाम और उपायों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में इस मॉकड्रिल में बालिकाओं के समक्ष विभिन्न प्रकार के अग्निशमन यंत्रों का प्रदर्शन भी किया गया।  

आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें प्रशिक्षण और जानकारी देनेे के निर्देश दिए हैं।