संस्कृति और विरासत कोरिया

Culture And Heritage Korea

Culture And Heritage Korea सामुदायिक नृत्य

कोरिया ज़िले अलग अलग त्यौहारो मे मुख्यता तीन सामुदायिक नृत्य एवं कार्यक्रम मनाये जाते है :-

  • कर्मा
  • सैला
  • सुआ

कर्मा : 

कर्मा त्योहार भाद्रपद-शुक्लपक्ष एकादशी को मनाया जाता है। यह त्यौहार खरीफ के कृषि पूरी होने के बाद आता है। Korea यह सभी कोरियन के प्रमुख त्योहारो मे से एक है कृषि के संचालन के पूरा होने के बाद, समुदाय “कर्म देव” की फसल की अधिक उपज के लिए प्रार्थना करता है। यह भी कठिन परिश्रम वे कृषि कार्यों के माध्यम से किया है के बाद एक उत्सव का प्रतीक है। नवयुवक लड़के और लड़कियां उपवास रहती है और शाम में “करम ट्री” की एक शाखा को लाते है और अपने समुदाय के मुखिया के घर के आँगन में लगाते है। जावा और गेहूं कुछ दिन पहले अंकुरित हो जाता है और उनके छोटे पौधों को एक छोटे से बांस की टोकरी में डाल दिया जाता है और करम पेड़ की शाखा के नीचे रख दिया जाता है। यह शाखा करम देव का प्रतीक होता है। एक दीपक जला कर करम देव के नीचे रखा जाता है।

सैला नृत्य : 

अगहन के महीने में, ग्रामीणों सैला नृत्य प्रदर्शन करने के लिए आसपास के गांवों के लिए जाते है। डाल्टन के अनुसार, यह द्रविड़ समुदाय का एक नृत्य है। सैला नर्तकियों के समूह , सैला नर्तकियों के मेढा प्रत्येक घर के लिये जाते है और नृत्य करते है। वे अपने हाथ मे लिये छोटी छड़ी से बगल मे व्यक्ति के पकड़े हुये छड़ी को मारते है वे एक बार गोले मे दक्षिणावर्त और बाद मे वामावर्त धूमते हुये नृत्य करते है । “मंदार” नर्तकियों को ताल देता है। जब ताल तेजी से हो जाता है, तब नर्तक भी तेजी से चलते हुये नृत्य करते हैं।छड़ी ऊपर जाते हुये दूसरे छड़ी से और फिर नीचे जाते हुये दूसरे छड़ी से टकराया जाता है।

सुआ नृत्य : 

यह मूल रूप से महिलाओं का एक लोक नृत्य है। सैला की तरह, महिलाओं को एक ही प्रकार की छोटे छड़ी का उपयोग किया जाता है और ध्यान रखा जाता है की छड़ी नीचे की ओर न जाने पाये । वे एक गोले मे नृत्य और गाते हुये चलते हैं। चावल रखे बर्तन मे कुछ लकड़ी के बने तोतो बर्तन केंद्र में रखा जाता है।

त्यौहार

भारत के मुख्य त्यौहार जैसे दिवाली, दशहरा, होली आदि कोरिया ज़िले भी मे मनाये जाते है। कुछ महत्वपूर्व त्यौहार भी कोरियन समुदाय मे खास महत्व है। वे है-:

  • गंगा दशहरा
  • छेरता
  • नवाखाई
  • सरहुल

गंगा दशहरा : 

गंगा दशहरा भीम सेनी एकादशी को मनाया जाता है। इस लोक नृत्य मे पुरुष, महिलाये, लड़कों और लड़कियों साथ मे नृत्य करते है और रोमांटिक गाना गाते है । शराब के साथ इस नृत्य को और उत्साह एवं उमंग प्रदान करता है। यह विशेष रूप से आनन्द का त्योहार है।.

छेरता नृत्य : 

यह पूर्णिमा (पूर्ण चंद्रमा दिन) पौष महीने में मनाया जाता है। साल की इस अवधि में, कृषक फसल काटते और कृषि उत्पादित फसल को घर लाते है। हर परिवार को अपनी वित्तीय स्थिति के अनुसार एक शानदार मध्याह्न भोजन करता है। बच्चे गांव में बाहर जाते और हर घर से चावल इकट्ठा करते है। शाम में, गांव के युवा नौकरानियों गांव की टंकी के पास या नदी या छोटी नदी के किनारे पर एकत्र होकर खाना पकाते और फिर वे एक सामुदायिक दावत देते है। चर्ता सभीसमुदाय के द्वारा मनाया जाता है। यह त्योहार मुख्यता फसल के उपज के लिए मनाया जाता है।

 नवाखाई : 

यह त्यौहार सभी समुदायों के किसानों द्वारा मनाया जाता है। जब धान फसल शुरू होता है, तब नए चावल को नवमी पर कुटुंब देवी/देवता को समर्पित कर विजय दशमी मनाया जाता है। यह एक धार्मिक समारोह है और इस के बाद कुटुंब “प्रसाद” लेता है। इसके बाद कुटुंब के चावल उपयोग मे लेना शुरू होता है। शाम में कुछ समुदायों नृत्य करते और शराब लेते है

 सरहुल : 

यह त्यौहार जब साल के पेड़ पर फूल से शुरू होता तब मनाया जाता है, केवल कुछ समुदाय इस त्योहार को मनाते हैं। पृथ्वी माँ की इस दिन पूजा की जाती है। खेतों में हल या पृथ्वी की खुदाई के किसी भी रूप का मना होता है। ग्रामीणों गांव “सरना” (गांव के भीतर वन के एक छोटे पैच) जाते और और वहाँ पूजा करते। उरांव समुदाय के लोग धरती माता की सूर्य देवता के साथ शादी का जश्न मनाते है

शिकार करना

भुईनहार(पंडो) गोंड और चेरवास पारंपरिक शिकारी थे लेकिन अब सरकार के द्वारा शिकार पूरी तरह से प्रतिबंध लग गया

भुइयार (जिसे पंडो नाम से जाना जाता है) गोंड और चेरवास परंपरागत शिकारी थे। वे धनुष और तीर का इस्तेमाल करते थे। कुछ तीर में जहर हुआ करते थे। जहर को तीर के निचले हिस्से में लगाया जाता था।अच्छे निशानेबाज़ चयनित स्थानों पर बैठते थ।दूसरो लोग जानवरों को हाक कर भगाते थे और जब जानवर बीस गज की दूरी के भीतर आते थे तब निशानेबाज़ उनपर तीर छोड़ते थे।धनुष के दो सिरों को जोड़ने के लिए एक पतली पट्टी बांस से बनाया जाता था। यह दूसरी और तीसरी उंगली द्वारा खींचा जाता था,एकलव्य (महाभारत के एक पात्र) अपने अंगूठे को खो दिया था जिसे गुरु द्रोणाचार्य ने गुरु दक्षिणा के रूप में अंगूठे की मांग की थी,इसलिए कभी उसके बाद से आदिवासी समुदाय ने अंगूठे की मदद से धनुष नहीं खीचते है। खरगोश का शिकार छोटे क्षेत्रों में किया जाता था। क्षेत्र के तीन पक्षों को पेड़ों की छोटी शाखाओं द्वारा बांधा जाता था। खरगोश को खुला पक्ष के माध्यम से अन्दर की ओर भेज कर उसके मरने तक मारा जाता था। शिकार का एक विशेष तरीका संगीत ध्वनियों के उपयोग के द्वारा भी अभ्यास किया जाता था। झुमका का उपयोग संगीतमय ध्वनि बनाने के लिए किया जाता था।यह एक लोहे की छड होती है जिसपर बहुत सारे छले के साथ घुंगरू और अंगूठ लगे होते है।

रात में लोगों के एक समूह पार्टी का गठन करके जंगल की ओर जाया करते थे जहां उन्हें हिरण और खरगोश मिल सकते थे। मशाल की जगह में, वे एक छोटा सा घड़ा रखते थे जिसके केंद्र में तीन इंच का परिपत्र छेद हुआ करता था। घड़े में जलती बांस की लाठी रखी जाती थी,लौ एक प्रकाश फैलता था जो घड़े के छेद के माध्यम से पेश होता था। यह एक मशाल की तरह काम करता था। एक व्यक्ति झुमका बजता था, संगीत खरगोश और हिरण को आकर्षित थे। वे पास आते थे औरे संगीत से सम्मोहित हो जाया करते थे। जब ये पहुँच में आ जाते थे तब पार्टी से एक या दो व्यक्ति सामने आके उनको छड़ी से मारते थे। यह कहा जाता है कुछ समय चीता और बाघ भी संगीत से आकर्षित हो जाते थे। ऐसे समय झुमका संगीत को धीरे करके जंगल से बाहर चले जाते थे।

जंगली तीतर एक शिक्षित तीतर की मदद से पकड़े जाते थे। शिक्षित तीतर को पेड़ के पास एक पिंजरे में रखा जाता था। एक जाल से पिंजरे को घेरा जाता है। शिक्षित तीतर के मालिक पेड़ के शीर्ष पर बैठे थे। तीतर को बसेरा करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता था जब मालिक सीटी बजाना शुरू करते थे। जैसे ही तीतर बसेरा शुरु करता था जंगली तीतर पास के झाड़ियो से जहाँ बसेरा की ध्वनि आ रही होती थी उस ओर आ जात थे। तब वे जाल में फस जाते थे,कुछ समय आठ से नौ तीतर एक समय में पकडे जाते थे। शिक्षित तीतर कुतनी नाम से भी जाना जाता था।

कुछ समुदायों बांस की लाठी से बनी चमक के साथ रात में नदियों के पास जाते थे। चमक के प्रकाश से मछली आकर्षित होके सतह तक आ जाते थे और उसके बाद ग्रामीणों मछली मारने के लिए एक तीन आयामी भाला इस्तेमाल करते थे। उथले धाराओं में धनुष और तीर का इस्तेमाल किया जाता था जब मछली सतह पर आ जाते थे।

पेड़ पर बैठे पक्षी लासा के द्वारा पकड़े जाते थे। चिपचिपा दूधिया रस महुआ, बार और पीपल का मिला कर एक छोटे से बांस कंटेनर में रखा जाता था। 18 इंच लम्बी और बहुत पतली बांस की छड़ी को दूधिया तरल में डूबा कर पेड़ की शाखाओं पर रखा जाता था जहाँ पक्षी बैठते थे जब पक्षी शाखाओं पर बैठते थे चिपचिपा दुधिया तरल पक्षी के पंखो में स्थानांतरित हो जाता था छड़ी पक्षी के पंखो से चिपक जाते थे। वे उड़ान भरने में असमर्थ होके गिर जाते थे। हरा कबूतर, जंगली पीन कबूतर, जंगली कबूतर, कबूतर, मैना, तोता आदि सब इस तरह से नीचे गिराए जाते थे।

Culture And Heritage Korea पंछियों को मरने के लिए तीर और धनुष तकनीक से रात को अभ्यास किया जाता था। ग्रामीणों पक्षियों को देख कर जब वे रात में पेड़ों में बसेरा के लिए आते थे। रात में, वे पेड़ के नीचे सूखे बांस की लाठी का एक बंडल जला देते थे। आग की रोशनी उन्हें पक्षी का पता लगाने के लिए पर्याप्त रौशनी दे देती थी। धनुष और तीर के साथ गोली मार दी जाती थी। तीर में एक भी धातु का टुकड़ा नहीं रहता था। इसके अंत में एक छोटे लकड़ी का टुकड़ा रहता था। पक्षी को इस तरह के तीर से मारा जाता था। तीर के अंत में लकड़ी के टुकड़े को ठेपा के रूप में जाना जाता है।

Culture And Heritage Korea जंगली सुअरों को खरीफ के मौसम के दौरान मार दिए जाता था जब वे गांव के लिए आते थे। तीन फुट चौड़ा और छह फुट लम्बी गहरी खाइयों को खोदा जाता था और ग्रामीण सूअरों के झुण्ड को खाई के दिशा कर गिरा दिया जाता था और भाले से मार दिया जाता था। सांभर हिरन गांव वालों के लिए एक आसान शिकार था। वे कुत्तों की मदद से इसका पीछा किया करते थे।

 Culture And Heritage Korea जहर को तीर पर इस्तेमाल किया जाता था उस समय शिकारी को जानवर का मांस खाने में सावधान रहना रहता था। तीर के आसपास के मांस को दूर फेंक दिया जाता था। कुछ मामलों में वहाँ हताहत हो जाते थे जब वे जहर वाले तीर द्वारा मारे गए जानवरों का मांस ले लिया करते थे।