बालोद : क्वॉरेंटाइन सेंटर में 4 महीने के मासूम की बिगड़ी तबियत, अस्पताल में

मौत, बेबस मां के हाथों से शव लेते पुलिसवालों के भी कांप गए हाथ

बालोद। छत्तीसगढ़ के बालोद जिलान्तर्गत देवरीबंगला के पास टटैगा (भरदा) गांव के क्वॉरेंटाइन सेंटर में 4 महीने के बच्चे की तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई।  बच्चे को बुधवार रात 11 बजे बालोद ले जाया गया था। जिसके बाद गुरूवार की सुबह 6 बजे बच्चे की मौत हो गई। 


मिली जानकारी के मुताबिक़ मृत शिशु और उसका परिवार चंद्रपुर से बालोद आए थे।  जिसके बाद सभी को टटैगा (भरदा) क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया था।  यह बालोद जिले में क्वॉरेंटाइन सेंटर में हुई तीसरी मौत है. बच्चे की तबीयत बिगड़ते ही उसे क्वॉरेंटाइन सेंटर से जिला अस्पताल रेफर किया गया था।  बच्चे का परिवार गुंडरदेही ब्लॉक का बताया जा रहा है। 


बच्चे का परिवार एक हफ्ते पहले महाराष्ट्र से आया था. जिसके बाद पूरे परिवार को क्वॉरेंटाइन कर दिया गया था. बच्चे की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया. बच्चे की मां का रो-रोकर बुरा हाल था. वो अपने जिगर के टुकड़े के शव को देने के लिए तैयार नहीं थी, लेकिन बाद में पुलिस ने किसी तरह से मां को समझाकर बच्चे के शव को लिया। फिलहाल शव से सैंपल लिए गए हैं और रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की सही वजह का पता चल सकेगा. इधर पूरे अस्पताल को सैनिटाइज किया जा रहा है। 


बता दें कि जिले में अब तक क्वॉरेंटाइन सेंटर में 3 मौत हो चुकी है।  पहले मामले में बाहर से आए एक मजदूर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।  इसके बाद तेलंगाना से आई एक 20 साल की युवती की भी मौत हो गई थी।  अब ताजा घटना में क्वॉरेंटाइन सेंटर में इस 4 महीने के मासूम की मौत हो गई है। 

sources

Comments are closed.