छत्तीसगढ़ में सभी अभ्यारण्य, टाइगर रिजर्व-नेशनल पार्क को 15 अक्टूबर से खोलने की तैयारी

कोरोना से पर्यटकों को बचाने वन विभाग ने गाइडलाइन भी की तैयार

रायपुर – छत्तीसगढ़ में कोरोना काल के बीच सभी अभ्यारण्य, टाइगर रिजर्व और नेशनल पार्क को 15 अक्टूबर से खोलने की तैयारी वन विभाग ने की है। दरअसल देशभर में एक अक्टूबर से नेशनल पार्क पर्यटकों के लिए खोल दिए जाते हैं, लेकिन इस बार 15 दिन पहले ही इसे खोलने की योजना बनाई गई है। यही नहीं, कोरोना से पर्यटकों को बचाने के लिए वन विभाग ने गाइडलाइन भी तैयार की है।

पर्यटकों को अपने साथ में सैनिटाइजर रखना अनिवार्य होगा, वहीं वन विभाग भी सैनिटाइजर उपलब्ध कराएगा। इसके अलावा पर्यटन स्थलों पर रुकने वाले पर्यटकों की सुविधाओं में कटौती भी होगी। पर्यटकों को अपने साथ तौलिया, साबुन, कंबल और सोने के लिए चादर लेकर आना पड़ेगा। सैर के दौरान पर्यटकों को जंगल में मास्क फेंकने की अनुमति नहीं होगी। खुद ही इसे जलाना पड़ेगा या फिर साथ लेकर जाएंगे।

छत्तीसगढ़ में इंद्रावती, कांगेर वैली और गुरु घासीदास नेशनल पार्क होने के साथ 11 अभ्यारण्य हैं। इसके साथ ही अचानकमार, इंद्रावती और उदंती-सीतानदी तीन टाइगर रिजर्व हैं। यहां पर हर साल हजारों की संख्या में राज्य के साथ दूसरे प्रदेशों के भी पर्यटक सपरिवार घूमने पहुंचते हैं। इस बार बारिश अच्छी होने की वजह से बड़ी संख्या में पर्यटकों के पहुंचने की संभावना को ध्यान में रखकर वन विभाग ने 15 दिन पहले ही पर्यटकों के लिए पर्यटन स्थल खोलने की योजना बनाई है।

Sources