जीतना तब आवश्यक हो जाता है जब लड़ाई ’अपने आप से हो’

रायपुर – प्रसि़द्ध कवि हरिवंश राय बच्चन को यदि इस समय याद करें कि ’हारना तब आवश्यक हो जाता है जब लड़ाई ’अपनों’ से हो और जीतना तब आवश्यक हो जाता है जब लड़ाई ’अपने आप ’से हो।’ अभी यह लड़ाई अपने आप से है ,अपनी आदतों से है, उन्हे सुधार लेंगे तो जिंदगी आसान हो जाएगी,खुद के लिए ,परिजनों के लिए और देश, दुनिया के लिए भी।
हर काल, देश में मानव के सामने कुछ न कुछ समस्याएं आती हैं जिसे वह सुलझा लेता है अपनी जीवटता से। समस्या को नज़रअंदाज करने से वह कम नही होती बल्कि उसका सामना करने से ही कम होती है। आज कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हम सभी किसी न किसी तरह से प्रभावित हैं। पर वास्तव में देखा जाए और अनेक वैज्ञानिक अध्ययन भी साबित कर रहे हैं कि इससे आसानी से स्वयं को बचाया जा सकता है। बस अपने जीवन में कुछ आदतों को शामिल कर जैसे मास्क पहन कर ,दूसरों से शारीरिक दूरी कम से कम दो गज की बना कर, भीड़ से बचकर , आस पास साफ सफाई रखकर और ये सब करने के लिए दूसरों को भी प्रेरित करें और जहां जरूरत पड़े वहां सार्वजनिक जगहों पर लोगों को समझाइश भी देकर। इस लड़ाई में ’हम कोशिश ही न करें यह तो गलत बात है।’

Comments are closed.