राजनांदगांव क्षेत्र की महिला तस्करी की घटना की जांच गंभीरता से की जाए – डॉ. किरणमयी नायक : राज्य महिला आयोग ने प्रकरण का संज्ञान लेकर शीघ्र कार्रवाई के लिए कहा

आईजी दुर्ग रेंज श्री विवेकानंद सिन्हा ने द्वारा गठित टीम की जांच जारी

रायपुर – राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. श्रीमती किरणमयी नायक ने राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ विकासखंड में मानव तस्करी की गंभीर घटना को संज्ञान में लिया है। रविवार 29 नवम्बर को राजनांदगांव पहुंचकर उन्होंने महापौर श्रीमती हेमा देशमुख, पुलिस अधीक्षक श्री डी श्रवण एवं अन्य अधिकारियों से चर्चा की। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. श्रीमती किरणमयी नायक ने कहा कि थाना डोंगरगढ़ में अपराध पंजीबद्ध किया गया है। जिसमें 5 आरोपियों की गिरफ्तारी की गई है और 3 लोगों को गिरफ्तार करने पुलिस दल हरियाणा गया हुआ है। उन्होंने बताया कि आयोग की तरफ से डीजीपी को पत्र प्रेषित कर प्रत्येक पुलिस थाना स्तर पर 30 वर्ष तक की बच्चियों और महिलाओं की गुमशुदगी की व्यापक स्तर पर जांच कराई जाए। इसके लिए मानव तस्करी के दोषियों और उन्हें संरक्षण देने वाले व्यक्तियों तक जांच का दायरा बढ़ाया जाए। स्थानीय थानों से ऐसे मामलों के लिए जन-जागरूकता अभियान भी निरंतर चलाए जाने की जरूरत है। उन्होंने नवगठित जिलों में महिला सब इंस्पेक्टर और आरक्षकों की नियुक्ति के लिए भी कहा।

उल्लेखनीय है कि पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज श्री विवेकानंद सिन्हा के द्वारा प्रकरण में अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी व अन्य पहलुओं की सूक्ष्म विवेचना हेतु अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जिला दुर्ग (ग्रामीण) श्रीमती प्रज्ञा मेश्राम के नेतृत्व में टीम गठित किया गया है। टीम में नगर पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव श्री एनएस चंद्रा, थाना प्रभारी डोंगरगढ़ श्री अलेक्जेन्डर किरो, उप निरीक्षक राजनांदगांव श्री बिलकिश चौहान, सहायक उप निरीक्षक थाना डोंगरगढ़ श्री बीआर बिसेन, थाना डोंगरगढ़ म.प्र.आर 504 एपी शीला, सायबर सेल राजनांदगांव श्री मनीष मानिकपुरी थाना डोंगरगढ़ श्री राजेन्द्र राविक शामिल है, जो प्रकरण में सूक्ष्मता से विवेचना कर साक्ष्य संकलन कर अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी करते हुए नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।