तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य सरगुजा

TAMOR PINGLA SANCTUARY SURGUJA

TAMOR PINGLA SANCTUARY SURGUJA तामोर पिंगला वन्‍यजीव अभयारण्‍य, उत्‍तरप्रदेश की सीमाओं से लगे सरगुजा जिले में स्थित है। इस अभयारण्‍य का नाम तामोर हिल और पिंगला नल्‍ला के नाम पर रखा गया है। वे इस क्षेत्र के प्राचीन और महत्‍वपूर्ण विशेषताओं वाले स्‍थल है। मोरन नदी, इस अभयारण्‍य से होकर बहती है और गोविंद वल्‍लभ पंत सागर जलाशय में मिलती है।

यह अंबिकापुर से 100 किमी. की दूरी पर स्थित है और सूरजपुर से 35 किमी. उत्‍तर में स्थित है। यह अभयारण्‍य 608.55 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैला हुआ है जहां कई प्रकार के वृक्ष पाएं जाते है। पिम्‍परी यहां का सबसे नजदीकी रेलवे स्‍टेशन है। इस क्षेत्र में प्रॉपर कम्‍यूनिकेशन का अभाव है। दक्षिण सरगुजा वन प्रभाग के अंर्तगत गुही और बिहारपुर पर्वतमालाएं आती है।

मुख्य वन्यजीव आकर्षण नीलगाय, चीतल, सांभर, चिंकारा, हिरण जंगली सूअर, लोमड़ी हैं। तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य जो कि सरगुजा जिले में स्थित है, भूमि तमोर हिल और पिंगला नाला (धारा) की इस भूमि की 2 प्रमुख विशेषताओं के कारण ऐसा कहा जाता है। बिश्रामपुर अभयारण्य के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन है। तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य के मामले में भी, अंबिकापुर उन पर्यटकों के लिए एक अच्छा पड़ाव है जो इस अभयारण्य के मिश्रित वन्यजीवों की एक झलक पाने के लिए आते हैं। अभयारण्य और गर्मी का पता लगाने का उत्कृष्ट समय नवंबर से जून तक है।

इस अभयारण्‍य की सैर के लिए सबसे अच्‍छा होता है। झारखंड का रांची और उत्‍तरप्रदेश वाराणसी एयरपोर्ट, यहां के पास पड़ता है। सूरजपुर में यहां का नजदीकी रेलवे स्‍टेशन है। पर्यटक और शोधकर्ता, रामकोला या अंबिकापुर आकर रूक सकते है।

Photo Gallery