​​​​​​​अब दुर्गम गांवों में भी घरो-घर नल से जल

Joharcg.comछत्तीसगढ़ शासन की संवेदनशील पहल पर अब बस्तर अंचल के दुर्गम गांवों में भी घरो-घर नल से शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। ऐसा जल जीवन मिशन के जरिए संभव हो पाया है। जिसके कारण ग्रामीण महिलाओं के चेहरों पर खुशियाँ झलक रही है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा दंतेवाड़ा जिले में जल जीवन मिशन अन्तर्गत पूर्व में पूर्ण व प्रगतिरत 53 ग्रामों की नलजल/समूह नलजल योजनाओं को रेट्रोफिटिंग योजनाएं के माध्यम से व शेष 154 ग्रामों की एकल ग्राम योजनाएं बनाई जा रही है और जिले में ग्राम स्तर पर गुणवत्तापूर्ण पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। अब ग्रामीण परिवारों के घर में नल से जल मिलने लगा है। सभी घरों में पाइप के द्वारा जल उपलब्ध कराया जा रहा है। 

जल जीवन मिशन अन्तर्गत मुख्यतः पाईप लाईन विस्तार उच्च स्तरीय जलागार निर्माण कार्य, सोलर आधारित उच्च स्तरीय टंकी एवं घरेलू नल कनेक्शन देने का कार्य किया जाना है। जिससे दंतेवाड़ा के कुल 225 ग्राम के 2 लाख 19 हज़ार 422 जनसंख्या से कुल 48 हज़ार 216 घरेलु नल कनेक्शन के माध्यम से लाभान्वित होंगे। वर्तमान में विकासखण्ड दन्तेवाडा के ग्राम गंजेनार में 278, भांसी 195, दुगेली 145, मसेनार 253, नेरली 08, बेहनार 57, धुरली 35, टेकनार 31, विकासखण्ड गीदम के ग्राम हाउरनार में 102, रोजे 73, छिन्दनार ग्राम में 44 और विकासखण्ड कुआकोण्डा के ग्राम नकुलनार में 182, हितावर 89, चोलनार 83, पालनार 55, मैलावाड़ा 169, हलबारास ग्राम में 74 तथा विकासखण्ड कटेकल्याण के ग्राम लखारास 31, कटेकल्याण 22, गोंगपाल ग्राम में 23 परिवारों सहित कुल 1949 परिवारों को घरेलू नल कनेक्शन प्रदाय किया गया है, जिससे लगभग 9 हज़ार 745 जनसंख्या लाभान्वित होगी। अब जहां महिलाओं को घरेलू उपयोग के लिए पानी लाने कोसों दूर पैदल नहीं जाना पड़ेगा। वहीं शुद्ध पेयजल मिलने से जलजनित बीमारियों से बचाने में मदद मिलेगी साथ ही शुद्ध पेयजल की उपलब्धता से समाज के हर तबके को सेहतमंद बनाने की ओर अग्रसर हो रहे हैं।