रायपुर : अधिक से अधिक फलदार और छयादार पौधरोपण के लिए घर पहुंच निःशुल्क सेवा

पर्यावरण संरक्षण, शुद्ध जलवायु, ताजे और मीठे फलों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा हरा-भरा एवं सुंदर छत्तीसगढ़ बनाने के उदे्श्य से राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण की तैयारी शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशानुरूप वन मं़त्री श्री मोहम्म्द अकबर के निर्देश पर प्रदेश के सभी जिलों में विभिन्न प्रजाति के छायादार और फलदार पेड़ लगाने के लिए लोगों को जागरूक करने के साथ ही उन्हें घर पहुंच निःशुल्क पौधे उपलब्ध कराने पौधों से लदे वाहनों की रवानगी जिला मुख्यालयों से शुरू हो गई है। कबीरधाम जिले में इस वर्ष विभिन्न प्रजाति के लगभग 10 लाख पौधों का रोपण करने का लक्ष्य रखा गया है।

घर पहुंच निःशुल्क पौधा वितरण आज कलेक्ट्रेट परिसर से हरी झंडी दिखाकर वाहन रवाना किया गया। जिले के किसी भी नागरिक को यदि इस सुविधा का लाभ लेना है, तो वे मोबाइल नंबर 9589035132 पर संपर्क कर वन विभाग की नर्सरी में उपलब्ध 38 विभिन्न प्रजातियां में से उपलब्धता के आधार पर अपनी आवश्यकता के अनुरूप पौधों की मांग अपना नाम, पता और मोबाइल नंबर बता कर घर बैठे प्राप्त कर सकते है। 
वन विभाग कवर्धा की नर्सरी में इस समय विभिन्न परिक्षेत्र में निःशुल्क वितरण के लिए मनरेगा से तैयार किए गए लगभग 6 लाख पौधे उपलब्ध है। वन मंडल कवर्धा  की नर्सरी  में अमरुद, कटहल, आम, जामुन, महुआ, बादाम, नींबू, बांस, आंवला, मुनगा, करंज, नीम, हर्रा, पपीता, सीताफल, बेल, गुलमोहर, पेलटाफॉर्म, सफेद शिरीश, केशिया, कचनार, अमलतास, अनार, अर्जुन, सागौन, बकैन, जंगल जलेबी, रामफल, कुल्लू, कुसुम, मुंडी, पीपल, शीशम, सिस्सू, इमली, बहेड़ा, आदि प्रजातियों के पौधे उपलब्ध हैं।