गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध करवाना पहली प्राथमिकता – डाॅ शुक्ला

शिक्षको के चयन एवं सुविधाओं में कोई समझौता नहीं,

शिक्षा सचिव ने जिले के उत्कृष्ट विद्यालयों की तैयारी का जायजा लिया,

सकरेली भाठा के मोहल्ला स्कूल की तारीफ की

जांजगीर -चाम्पा- छत्तीसगढ़शासन के शिक्षा सचिव डाॅ आलोक शिक्षा ने आज जांजगीर व सक्ती के उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान चर्चा करते हुए कहा कि सरकार की मंशानुसार शासकीय स्कूलों में उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से जांजगीर-चांपा जिले के दो शासकीय स्कूलों को उत्कृष्ट विद्यालय के लिए तैयार किया जा रहा है। शिक्षकों की नियुक्ति व प्रतिनियुक्ति में किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा। यहां अध्ययनरत विद्यार्थियों को उत्कृष्ट सुविधाएं मिलेगी। निजी स्कूलों से बेहतर शिक्षा उपलब्ध करवाई जाएगी। साथ ही साथ बच्चों के चंहुमुखी विकास के लिए खेल जैसी अतिरिक्त पाठ्यक्रम गतिविधियां को भी प्राथमिकता दी जाएगी। 

       डाॅ शुक्ला ने कहा कि निजी स्कूलों की तरह बच्चों को सुविधाआएं व गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध करवानें के लिए सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है। प्रैक्टिकल लैब, लाईब्रेरी व क्लास रूम हवादार हो व रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए। साईन्स लैब में सुरक्षा संबंधी उपकरण की व्यवस्था का विशेष ध्यान रखा जाए। कोरोना संक्रमण से सुरक्षा संबंधी मानको का ध्यान रखते हुए विद्यार्थियों की बैठक व्यवस्था में सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ायी से पालन सुनिश्चित हो।  

    डाॅ शुक्ला ने स्कूल निरीक्षण के पश्चात सक्ती के जिंदल प्राईवेट स्कूल का भी अवलोकन किया। अवलोकन के दौरान अधिकारियो से चर्चा करते हुए कहा कि निजी स्कूलों में उपलब्ध सुविधाओं जैसी सुविधा उत्कृष्ट विद्यालय में भी होनी चाहिए।

   जांजगीर के अग्रेंजी माध्यम उत्कृष्ट विद्यालय में शिक्षकों से चर्चा करते हुए कहा कि शिक्षकों का चयन पात्रता अनुसार किया जा रहा है। पंचायत एवं नगरीय निकाय के शिक्षाकर्मी व स्कूल शिक्षा विभाग के नियमित शिक्षक भी पात्रता अनुसार निर्धारित प्रक्रिया के तहत प्रतिनियुक्ति पर आ सकतें हैं।  

    सकरेली भाठा के मोहल्ला स्कूल की तारीफ की

शिक्षा सचिव ने ग्राम सकरेली भाठा के स्टेशन पारा मोहल्ला स्कूल का निरीक्षण किया। बच्चों से चर्चा की, विषय से संबंधित प्रश्न पूछे और पुस्तक वाचन भी कराया। विद्यार्थियों के से सही व सकारात्मक जवाब मिलने पर शिक्षिका की प्रशंसा की। बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए पुस्तक और कलम प्रदान किए। 

          निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्री यशवंत कुमार, जिला पंचायत सीईओ श्री तीर्थराज अग्रवाल, सक्ती व जांजगीर के जिला शिक्षा अधिकारी, स्कूल के प्राचार्य उपस्थित थे।