ऑफलाइन : शिक्षकों को साइकिल से मोहल्लों में भेजा जाएगा, माइक के

जरिए होगी पढ़ाई : प्रेमसाय सिंह

कोरबा।  छत्तीसगढ़ के कोरबा पहुंचे स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने लॉकडाउन में पढ़ाई तुंहर दुआर योजना के तहत सरकार की ओर से शुरू की गई ऑनलाइन शिक्षा के बेहतर परिणाम नहीं मिलने के सवाल पर उन्होंने एक नई योजना के बारे में जानकारी दी, जिसके बाद से शिक्षक टेंशन में हैं , स्कूल शिक्षा मंत्री टेकाम ने कहा कि नए विकल्प और पढ़ाई के अन्य स्त्रोतों पर भी विचार किया जा रहा है।  ऑनलाइन के साथ ही ऑफलाइन पढ़ाई भी होगी।  शिक्षकों को साइकिल से मोहल्लों में भेजेंगे, जहां बच्चों को इकट्ठा कर माइक के जरिए पढ़ाई कराई जाएगी।

 
टेकाम ने मोबाइल फोन में नेटवर्क वाले सवाल पर कहा कि जहां नेटवर्क है कम से कम वहां तो ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है।  कुछ भी पढ़ाई नहीं हो पाने से बेहतर है कि, कम से कम 20% पढ़ाई तो हो रही है।  उन्होंने कहा कि पढ़ाई के अन्य विकल्प और स्त्रोतों पर भी विचार किया जा रहा है।  पढ़ाई का जो नुकसान हुआ है, इसकी भरपाई कैसे हो उसका विकल्प खोजने के प्रयास जारी है। 


स्कूल खोलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि, फिलहाल कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल कब से खुलेंगे यह कह पाना बिल्कुल भी संभव नहीं है।  छत्तीसगढ़ के साथ ही पूरे देश में यह समस्या है।  इसके लिए केंद्र सरकार से विस्तृत दिशा-निर्देश का इंतजार करना होगा।  उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ही स्कूल खोलने के विषय में कोई फैसला लेगी। 

उन्होंने कहा कि कई स्कूल को क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाया हुआ है।  जब तक वह इससे मुक्त नहीं हो जाते, सफाई नहीं हो जाती स्कूलों का सैनिटाइज नहीं हो जाता, तब तक स्कूल नहीं खोला जा सकता। 

sources